Wind Summary in Hindi Class 9

कवि ने हवा का सजीव चित्र खींचा है जो दुर्बलता का उपहास उड़ाता है।  इसलिए वह शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत होने का सुझाव देता है।  दरअसल हवा मुश्किलों या बाधाओं का प्रतीक है।

कविता के पहले भाग में हवा की क्रिया का वर्णन है।  कवि हवा को धीरे से आने को कहता है।  उसे खिड़कियों के शटर को तोड़ने के लिए हवा की आवश्यकता थी, न कि कागजों को बिखेरने और किताबों को नीचे फेंकने के लिए।  लेकिन हवा किताबों को गिरा देती है और उसके पन्ने फाड़ देती है।  कवि कहता है कि हवा कमजोर चीजों का मजाक उड़ाती है।  यह कांपने वाले घंटे, सेफ्टर और यहां तक ​​​​कि गर्म भी करता है।  हवा हर उस चीज को कुचल देती है जो कमजोर है।

कवि हमें बलवान होने की सलाह देता है तभी हम हवा से अपने आप को बचा सकते हैं हम पक्के दरवाजों वाले मजबूत घर बनाने चाहिए, हमारा शरीर और दिल भी मजबूत होना चाहिए, तभी हम हवा से दोस्ती कर पाएंगे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: